Connect with us

उत्तराखण्ड

हल्द्वानी छात्र संघ अध्यक्ष समेत साथियों पर डकैती का मुकदमा दर्ज, विवेकानंद हॉस्पिटल के बाहर न्यूरो सर्जन डॉक्टर पुनीत से मारपीट का मामला

खबर शेयर करें -

रंगदारी से इंकार करने पर एक छात्र नेता ने छात्रसंघ अध्यक्ष सूरज रमोला व साथियों के साथ मिलकर शहर के प्रतिष्ठित चिकित्सक डॉ.पुनीत कुमार गोयल पर हमला कर दिया। घटना उस वक्त अंजाम दिया गया जब डॉ. पुनीत रेडिएंट हॉस्पिटल की ओपीडी में मरीज देख रहे थे।

उन्हें हॉस्पिटल में पीटते हुए खींच कर सड़क तक लाया गया और फिर लोगों से भरी सड़क पर पीटा। उन्हें जान से मारने और अपहरण करने की कोशिश की। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। डॉ.पुनीत की तहरीर पर मुखानी पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ डकैती समेत अन्य गंभीर धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

मुखानी पुलिस को दी तहरीर में हिल्स व्यू एन्क्लेव लोहरियासाल मल्ला निवासी डॉ. पुनीत कुमार गोयल पुत्र हरि प्रकाश गोयल ने लिखा, बीती 5 जुलाई की दोपहर करीब साढ़े 12 बजे वह मुखानी रोड केवीएम स्कूल के पास स्थित रेडिएंट हस्पिटल में अपने केबिन में मरीजों को देख रहे थे।तभी छात्र नेता विशाल सैनी अपने साथियों केबिन में घुसा और गालियां देने लगा। पुनीत कुछ समझ पाते इससे पहले ही विशाल सैनी व साथियों ने गिरेबान पकड़ कर उन्हें पीटना शुरू कर दिया। इस बीच उक्त लोगों विपुल की टेबल की दराज में रखे 40 हजार रुपये निकाल लिए। पीटते-घसीटते वह पुनीत को केबिन से बाहर ले आए और जान से मारने की धमकी दे कर फरार हो गए।

करीब आधे घंटे बाद विशाल सैनी अपने साथी छात्रसंघ अध्यक्ष सूरज रामोला, हितेश जोशी, राहुल मठपाल, मनीकेत तोमर, मोहित खोलिया व अन्य के साथ फिर आ धमका। केबिन में बैठे पुनीत को फिर पीटना शुरू कर दिया। पुनीत किसी तरह बचकर मदद की गुहार लगाते हुए हॉस्पिटल से बाहर भागे। उन्होंने बगल के विवेकानंद हस्पिटल में शरण लेनी चाही, लेकिन तभी पीछा कर आरोपियों ने उन्हें सड़क पर पकड़ कर बेतहाशा पीटना शुरू कर दिया। उन्हें गाड़ी में डालकर अपहरण की कोशिश की। सड़क पर भारी भीड़ जुटने से आरोपी अपनी नीयत में कामयाब नहीं हुए और चिकित्सक को छोड़कर फरार हो गए। जिसके बाद चिकित्सक ने मुखानी पुलिस को तहरीर सौंपी।

मुखानी थानाध्यक्ष पंकज जोशी ने बताया कि तहरीर के आधार पर आरोपियों के खिलाफ बीएनएस की नई धाराओं 333, 309(4), 115(2), 352, 351(2), 351(3) व 191(2) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

डॉक्टर के मुताबिक वह सदमे में है और इसी वजह से मुकदमा दर्ज कराने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। घटना के बाद कुछ शुभचिंतकों ने पुनीत की हिम्मत बढ़ाई और अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ने को प्रोत्साहित किया। जिसके बाद वह मुखानी पुलिस के पास तहरीर लेकर पहुंचे। उन्होंने पुलिस को बताया कि घटना का वीडियो वायरल होने से वह मानसिक तौर पर प्रताणित हुए और समाजिक प्रतिष्ठा खराब हुई है।

चुनाव लड़ने के पैसे नहीं दिए तो रची साजिश

डॉ.पुनीत कुमार अग्रवाल का कहना है कि विशाल सैनी ने छात्रसंघ चुनाव के दौरान उनसे चुनाव लड़ने के लिए रुपये मांगे थे, लेकिन पुनीत ने रुपये देने से इंकार कर दिया था। उसी दिन विशाल ने धमकी दी कि थी कि वह उन्हें छोड़ेगा नहीं। घटना के दिन जब विशाल अस्पताल पहुंचा उसने कहाकि तू चंगुल में फंस गया है।कहा, ‘सुंदर नाम का मरीज जो हस्पिटल में एडमिट है, वह मेरे कहाने पर ही तेरे हस्पिटल में एडमिट कराया गया था। अब मैं उसे डिस्चार्ज कराकर लेजा रहा हूं। उसके इलाज का जो रुपया दे दिया उससे संतुष्टी कर। अब कोई रुपया नहीं मिलेगा, वैसी भी हम रुपये देने वालों में नहीं बल्कि लेने वालों में से हैं, बस मान ले कि बाकी के बचे रुपये वही हैं जो मैंने तुझसे पहले छात्र संघ चुनाव के दौरान मांगे थे।’

डॉ ने कहा कि पहुंच वाले लोग है। ऐसे में उन्हें और उनके परिवार को जान का खतरा है। पुनीत ने पुलिस से सुरक्षा की गुहार लगाई है। बोले, साथियों ने दी हिम्मत तो कराया मुकदमा

पुनीत ने पुलिस को बताया कि इस घटना के बाद से वह गहरे सदमे में है और इसी वजह से मुकदमा दर्ज कराने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। घटना के बाद कुछ शुभचिंतकों ने पुनीत की हिम्मत बढ़ाई और अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ने को प्रोत्साहित किया। जिसके बाद वह मुखानी पुलिस के पास तहरीर लेकर पहुंचे। उन्होंने पुलिस को बताया कि घटना का वीडियो वायरल होने से वह मानसिक तौर पर प्रताणित हुए और समाजिक प्रतिष्ठा खराब हुई है।

Continue Reading

संपादक - कस्तूरी न्यूज़

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखण्ड

Recent Posts

Facebook

Advertisement

Trending Posts

You cannot copy content of this page