Connect with us
प्रदेश में कई जगह भूस्खलन की वजह से सड़कें बंद हैं, जिसके चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पिथौरागढ़

उत्तराखंड में मानसून आते ही मचने लगी तबाही, काली नदी में उफान, जौलजीबी-मुनस्यारी मार्ग बहा

खबर शेयर करें -

पिथौरागढ़: मानसून की आहट से पहले ही प्रदेश में हालात बिगड़ने लगे हैं। भारी बारिश के चलते जगह-जगह नदियों का जलस्तर बढ़ा हुआ है। भूस्खलन की वजह से सड़कें बंद हैं, जिसके चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कुमाऊं क्षेत्र से भी तबाही की तस्वीरें आई हैं।

यहां गोरी गंगा, रामगंगा, मंदाकिनी, सेरा नदी, जाकुला, गोसी नदी सहित सभी नालों का जलस्तर बढ़ गया है। जौलजीबी-मुनस्यारी मार्ग सेराघाट के पास बह गया है और वाहन रास्ते में फंसे हैं। क्वीटी के पास जाकुला नदी किनारे एक शव बह कर आया है। पिथौरागढ़ में थल-मुनस्यारी मार्ग भी बंद है। रामनगर में शनिवार रात से बारिश हो रही है।

यह भी पढ़ें 👉  'वाणी गुरु है वाणी विच वाणी अमृत सारे': गुरुद्वारा श्री दुख निवारण साहिब राजेन्द्रनगर में सजा दीवान

नैनीताल में भी कोहरे के बीच बारिश का सिलसिला जारी है। 3 दिन पहले काली नदी का जलस्तर बढ़ने से तवघाट-लिपुलेख मार्ग भी बंद हो गया था, फिलहाल सड़क को ट्रैफिक के लिए खोल दिया गया है। गुरुवार से काली नदी ऊफान पर है। जिसके चलते बूंदी से मालपा के बीच कोटना लामारी के मध्य नदी के कटाव के कारण 15 मीटर सड़क बह गई थी। शुक्रवार से बीआरओ द्वारा यहां पर सड़क खोलने का कार्य शुरू किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  पत्रकार कल्याण कोष का सदस्य बनने पर वरिष्ठ पत्रकार दिनेश जोशी का सम्मान

शनिवार दोपहर तक वाहनों के लिए सड़क खोल दी गई। इससे आदि कैलाश यात्रा पर गए यात्रियों को भी राहत मिली है। यात्रा के लिए निकला 18वां दल इसी मार्ग से सोमवार को गुंजी पहुंचेगा। अगर आप भी पहाड़ की यात्रा पर जा रहे हैं तो मौसम देखकर ही यात्रा शुरू करें। प्रदेशभर में बारिश का दौर जारी है। जिससे जगह-जगह भूस्खलन की घटनाएं हो रही हैं।

Continue Reading

संपादक - कस्तूरी न्यूज़

More in पिथौरागढ़

Trending News

Follow Facebook Page

You cannot copy content of this page