Connect with us
राष्ट्रपति द्वारा आयोजित रात्रिभोज के लिए कई केंद्रीय मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया गया है, लेकिन खरगे को निमंत्रण नहीं भेजा गया। रात्रिभोज के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को आमंत्रित किया गया है।

राजनीति

G-20 की डिनर पार्टी में सोनिया-खरगे को न्योता नहीं, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, नीतीश कुमार और ममता को बुलाया

खबर शेयर करें -

नई दिल्ली: दिल्ली में जी-20 समिट शुरू होने में कुछ ही घंटे बचे हैं। जी-20 के रात्रिभोज में मौजूदा कैबिनेट, विदेशी प्रतिनिधि सांसदों और मंत्रियों के अलावा देश के कुछ पूर्व सीनियर नेता भी शामिल होंगे। वहीं, कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, जो राज्यसभा में विपक्ष के नेता हैं, को शनिवार को राष्ट्रपति द्वारा आयोजित रात्रिभोज के लिए आमंत्रित नहीं किया गया है। सोनिया गांधी को भी न्योता नहीं भेजा गया है। खरगे के कार्यालय के सूत्रों ने बताया, “उन्हें अब तक (शुक्रवार सुबह) राष्ट्रपति द्वारा आयोजित रात्रिभोज के लिए आमंत्रित नहीं किया गया है।”

इससे पहले बुधवार को कांग्रेस के एक सूत्र ने कहा था कि राष्ट्रपति द्वारा आयोजित रात्रिभोज के लिए कई केंद्रीय मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया गया है, लेकिन खरगे को निमंत्रण नहीं भेजा गया। उन्होंने यह भी कहा कि रात्रिभोज के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को आमंत्रित किया गया है। जी-20 शिखर सम्मेलन इस साल भारत की अध्यक्षता में 9-10 सितंबर को नई दिल्ली में आयोजित किया जा रहा है।

मल्लिकार्जुन खरगे ने शेयर की कविता

वहीं, आपको बता दें कि G-20 समिट के रात्रिभोज के निमंत्रण पत्र पर ‘प्रेसिडेंट ऑफ भारत’ लिखा गया है जिस पर राजनीतिक घमासान जारी है। इस बाबत मल्लिकार्जुन खरगे ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए एक कविता शेयर की। उन्होंने लिखा, मोदी सरकार I.N.D.I.A पार्टियों के गठबंधन से घबरा गई है। भारत और INDIA दोनों शब्द संविधान का अटूट अंग हैं। उनकी नफरत और ध्यान भटकाने की राजनीति के लिए कुछ पंक्तियां-

तुम बांट रहे हो देश को, हम नहीं,
बांट सको हमें, तुममें ये दम नहीं।
तख्त का नशा है बस, देश की फिक्र नहीं,
बेरोजगारी, विकास का, कहीं भी जिक्र नहीं।
कोई नया झूठ बनाओ सारे पुराने हो गए,
सड़कों पर देखों, बच्चे सयाने हो गए।
जान भी लगा दो अगर, रुकेंगे ये एक कदम भी नहीं,
संविधान रोशन रहेगा, चाहे रहें हम नहीं।
हिंदू, सिख, ईसाई, मुसलमान सब रहेंगे साथ-साथ,
जब मिलेगा दिल से दिल, तब होगी मन की बात।

Continue Reading

संपादक - कस्तूरी न्यूज़

More in राजनीति

Recent Posts

Facebook

Advertisement

Trending Posts

You cannot copy content of this page