Connect with us
चंद्रयान-3 के सफल लैंडिंग की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। यान आज शाम 6 बजकर 4 मिनट पर चांद की सतह पर उतरेगा। चांद पर उतरने के बाद चंद्रयान क्या करेगा, क्या होती है सॉफ्ट लैंडिंग..जानें सबकुछ-

अंतरराष्ट्रीय

Chandrayaan-3 Landing: क्या होती है सॉफ्ट लैंडिंग, चांद पर उतरने के बाद क्या करेगा चंद्रयान, पढ़ें पूरी डिटेल्स

खबर शेयर करें -

चंद्रयान 3 आज चांद की सतह पर अपना पहला कदम रखेगा। चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के लिए अब उल्टी गिनती शुरू हो गई है। आज शाम 6 बजकर 4 मिनट पर चंद्रयान-3 का विक्रम रोवर का प्रज्ञान चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। अगर सफल लैंडिंग होती है तो भारत का डंका पूरी दुनिया में बजेगा। चंद्रयान की सफल लैंडिंग कई मायनों  में खास है क्योंकि दक्षिणी ध्रुव में ऐसे कई खास रहस्य छुपे हुए हैं जिसकी जिज्ञासा हर किसी के मन में है।  

क्या होती है सॉफ्ट लैंडिंग

सॉफ्ट लैंडिंग वह जगह है जहां अंतरिक्ष यान नियंत्रित तरीके से नीचे उतरता है। इसके बाद यान की गति धीरे-धीरे कम हो जाती है और अंतरिक्ष यान लगभग 0 गति से सतह को छूता है। इसके विपरीत हार्ड लैंडिंग एक क्रैश लैंडिंग है जहां अंतरिक्ष यान सतह से टकराते ही नष्ट हो जाता है।

चार साल पहले चंद्रयान 2 सॉफ्ट लैंडिंग के दौरान फेल हो गया था, लेकिन इस बार इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने आश्वासन दिया कि भले ही सब कुछ विफल हो जाए, लेकिन सॉफ्ट लैंडिंग होगी। 30 किमी की ऊंचाई से 1.68 किमी प्रति घंटे की गति से उतरना शुरू होगा, जब तक चंद्रयान 3 चंद्रमा की सतह पर पहुंचेगा, गति लगभग 0 तक कम हो जाएगी। आज का टचडाउन सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। चंद्रयान 3 क्षैतिज से ऊर्ध्वाधर दिशा की ओर मुड़ेगा। बता दें कि पिछली बार यहीं पर चंद्रयान 2 को समस्या का सामना करना पड़ा था।

चंद्रयान 3 की सफल सॉफ्ट लैंडिंग के बाद क्या होगा?

चंद्रयान की सफल सॉफ्ट लैंडिंग के बाद रोवर और  लैंडर चंद्रमा की सतह पर उतरेंगे। फिर रोवर चंद्रमा की सतह का विश्लेषण करेगा। लैंडर और रोवर एक चंद्र दिवस तक जीवित रहेंगे जो पृथ्वी पर 14 दिनों के बराबर है। वे वहां के परिवेश का अध्ययन करेंगे। 14 दिन बाद क्या होगा ये अभी तक पता नहीं है। वे एक और चंद्र दिवस तक जीवित हो सकते हैं, इसरो अधिकारियों ने अभी तक इस संभावना से इनकार नहीं किया है।

एक चंद्र दिवस वह समय होता है जब सूर्य चंद्रमा पर चमकता है। जब तक सूरज चमकता रहेगा सभी प्रणालियां ठीक काम करेंगी। जब सूर्य चंद्रमा पर डूबेगा, तो अंधेरा हो जाएगा और तापमान शून्य से 180 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला जाएगा, जिससे अंतरिक्ष यान के जीवित रहने की संभावना कम हो जाएगी। लेकिन अगर यह जीवित रहा तो यह इसरो की एक और उपलब्धि होगी।

अगर आज की लैंडिंग सफल नहीं हुई तो क्या होगा? 

इसरो के चेयरमैन एस सोमनाथ ने पहले कहा था कि इस बार चूक की कोई संभावना नहीं है और अगर विक्रम लैंडर के सभी इंजन और सेंसर काम करना बंद कर देते हैं, तब भी सॉफ्ट लैंडिंग होगी। “अगर सब कुछ विफल हो जाता है, अगर सभी सेंसर विफल हो जाते हैं, कुछ भी काम नहीं करता है, फिर भी यह (विक्रम) लैंडिंग करेगा। इसे इसी तरह डिज़ाइन किया गया है – बशर्ते कि प्रणोदन प्रणाली अच्छी तरह से काम करे। हमने यह भी सुनिश्चित किया है कि अगर (विक्रम के) दो इंजन इस बार भी काम नहीं करते हैं, तब भी यह लैंडिंग में सक्षम होगा, ”एस सोमनाथ ने कहा।

यदि सब कुछ विफल हो जाता है, तो इसरो 24 अगस्त को दूसरी लैंडिंग का प्रयास करेगा और एक और प्रयास 14 दिनों के बाद किया जा सकता है जो एक चंद्र दिवस है, अगले दिन चंद्रमा में सूर्य उगता है।

Continue Reading

संपादक - कस्तूरी न्यूज़

More in अंतरराष्ट्रीय

Recent Posts

Facebook

Advertisement

Trending Posts

You cannot copy content of this page